दिखे सूर्यास्त, पर ना परास्त


“डूबता सूरज
जो कभी
डूबता ही नहीं।
दिखे तो यह सूर्यास्त,
पर ना कभी परास्त।”
© कवि प्रवीण कुमार पति